Wednesday, April 5, 2017

Socialist Party (India) Delhi State Convention


Socialist Party (India) Delhi State Convention
(Sanwaldas Gupta Nagar)
12 Chelmsford Road, New Delhi
2 April 2017

Resolution
Delhi is the capital of the country. The centre of power and culture. Its National Capital Regin (NCR) is a large base for several national and international multinational companies. But leaving a few privileged ones and their areas the civic life of this city is full of misery and deprivation. Murders, roberies, skirmishes and riots, assaults on women’s modesty happen here routinely in broad daylight. Ever new cyber crimes along with other crimes have become commonplace in Delhi and NCR. Lower and lower middle classs continually grapples with unemployment and inflation. Lakhs of children, women and elderly beg at intersections and sleep on the streets. Lakhs of children are servants in affluent homes or eateries. In villages, resettlement colonies, JJ colonies and older areas of the city, there is a perpetual deprivation of civic amenities like toilets, roads, parks, sewer connections etc. There is no stopping the privatisation of essential services like electricity, water, health and education at the hands of profiteering companies in the country’s capital. Instead of building schools, training institutes, colleges, universities or research institutes, the government is busy gifting away the land acquired from farmers at a pittance, to the corporate houses, the uber rich and the builders to open luxury hotels, mega malls, farm houses, resort hospitals, bars and cassinos. In pursuit of capitalist development, Delhi has become one of the most polluted city in the entire world. A lot of epidemics are unleashed due to pollution and every year thousands of people lose their lives and lakhs of them lose their health. Both the rich and the poor are affected.

Aam Admi Party which accused the Congress of corruption to come to power has a deeply corrupt administration. No work happens in any departement without bribes. In the Kejriwal government, which has been an open votary of capitalism, the wealthy and the brokers are rolling in money while the general public is in deep distress. The current Delhi government has emulated the Modi government at the centre in burning away millions of rupees of hard earned tax-payer’s money in the name of building the luminous image of their leader and the party. The Chief Minsiter Arving Kejriwal and the deputy Chief Minister Manish sisodia seem to be vying with each other for the more expensive hoardings and posters with their photos.Kejriwal, who claimed to live simply and honestly in the days of the anti-corruption movement, lives like royalty as Chief Minsiter. In a small, halfway state like Delhi, there is a Deputy CM, who lives with full fanfare in the residence of the previous CM, Sheila Dikshit. Both these characters have come from the NGO world and are running the government according to the those very principles. That is, the ruse of fooling the poor to protect profiteering capitalism. Most of the country’s progressive civil society and its leaders favour this party, which aspires to be the B team of BJP. The Socialist Party believes that this is a serious challenge for the politics of constitutionally warranted equality and freedom.

Through this convention the Socialist Party 9India) Delhi State, issues the following demands on behalf of the working class of Delhi:

  1. In every part and section of Delhi, the freedom and respect of women must be ensured.
  2. The needs of the elderly, people with disability and children must receive utmost care and attention.
  3. Keeping in mind the new challenges of life in the capital, creative policy for the youth and children must be undertaken.
  4. Privatization of electricity, water and health services in Delhi must stop.
  5. Privatization of education must stop. The existing private schools, colleges and universities must be nationalized/ socialized.
  6. The government must fulfill its constitutional duty to provide equal, free, quality education in the mother tongue.
  7. In all the schools at all levels, and in colleges and university departments, vacant positions must be filled right away.
  8. Privatization of electricity, water and health services must stop. Private hospitals must be nationalized/ socialized.
  9. In all government departments, the vacant positions of class three and four employees must be filled immediately. In order that people’s problems get resolved quickly, more positions must be generated in departments. Contractual system must end.
  10. In the villages of Delhi, services such as housing, roads, electricity, water, libraries, women centers, child centers, health centers, parks, community centers, schools, colleges, vocational institutes etc., must be made available as per the requirements of all the citizens. Apart from farmers, craftsmen families who depend on agriculture for their livelihood, must also be given residential plots.
  11. Unauthorized colonies must be authorized with all civic amenities.
  12. Families living in JJ colonies for long must be given residential flats as per at one go.
  13. Citizens willing to be self-employed must be given permission and facilities to run small cottage industries on a priority basis.
  14. Street vendors must not need to pay committees and police any kind of bribe, there must be a permanent resolution to this.
  15. Unauthorized colonies must be given comprehensive civic amenities and regularized.
  16. It must be ensured that all the traffic signals in the city function properly every day.

Thus stands the Socialist Party
Upholding brotherhood and equality




Socialist Party (India) Delhi State 

Monday, April 3, 2017

सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) दिल्ली प्रदेश सम्मेलन रिपोर्ट

''दिल्ली के बुनियादी मुद्दों पर संघर्ष केवल सोशलिस्ट पार्टी इंडिया कर रही है। ये अकेली पार्टी है जिसने देश की राजधानी में कॉर्पोरेट राजनीति की आड़ में चल रहे लूटतंत्र की मुखालफत लगातार की है। साथ ही सोशलिस्ट पार्टी इंडिया ने पूरी सक्रियता से दिल्ली की केजरीवाल सरकार की वादाखिलाफी को भी जनता के सामने रखने का प्रयास किया है।- प्रेम सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, सोशलिस्ट पार्टी(इंडिया)''

2 अप्रैल रविवार को 12 चेम्सफोर्ड रोड नई दिल्ली में सोशलिस्ट पार्टी इंडिया का एक दिवसीय राज्य सम्मेलmन आयोजित हुआ। सम्मेलन में शामिल पार्टी नेताओं ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार और केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों को जनता के सामने बेनक़ाब करने की रणनीति बनाई। एक दिवसीय राज्य सम्मेलन दो सत्र में आयोजित हुआ। पहले सत्र का उद्घाटन पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ प्रेम सिंह ने किया। इस सत्र में सोशलिस्ट पार्टी इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ प्रेम सिंह, पार्टी के राष्ट्रीय सचिव, फैजल भाई, पार्टी की वरिष्ठ नेता रेणु गंभीर, और .......मौजूद रहे। राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ प्रेम सिंह ने कहा कि मौजूदा दौर में देश में सबसे मजबूत राजनीतिक विकल्प सोशलिस्ट पार्टी इंडिया ही हो सकती है। क्योंकि मुख्यधारा की बाकी पार्टियां कहीं ना कहीं नव उदारववाद और सांप्रदायिकता के एजेंडे को ही आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। पार्टी नेता और खुदाई खिदमतगार के फैजल  भाई ने कहा कि मौजूदा दौर धर्मनिरपेक्ष लोगों के लिए चुनौती भरा है, और ऐसे माहौल में हमें मिलजुलकर देश की एकता बचाए रखने के लिए संघर्ष करना है।  

दूसरे सत्र में पार्टी का प्रस्ताव पढ़ा गया। युवा नेता योगेश पासवानन ने प्रस्ताव पेश किया । दूसरे सत्र में प्रस्ताव पर पार्टी के तमाम नेताओं ने अपनी राय रखी। इस सत्र में जेडीयू के महासचिव अरुण श्रीवास्तव, सोशलिस्ट पार्टी लोहिया के महासचिव संदीप मरोडिया, सोशलिस्ट जनता पार्टी की अध्यक्ष मंजू मोहन, डेमोक्रेटिक सोशलिस्ट पार्टी के अध्यक्ष प्रबोध सिन्हा, कामरेड नरेन्द्र सिंह, ट्रेड यूनियन नेता, आज़ाद, ट्रेड यूनियन नेता, डॉक्टर एके अरुण, संपादक युवा संवाद ने अपनी बात रखी।        

सोशलिस्ट पार्टी के राज्य सम्मेलन में दिल्ली प्रदेश की नई कार्यकारिणी भी घोषित की गई। इसमें डी एन कालिया को दिल्ली का प्रदेश अध्यक्ष और सैयद तहसीन अहमद को कार्यकारी अध्यक्ष चुना गया। इसके अलावा महेंद्र यादव, शऊर खान, तृप्ति नेगी को उपाध्यक्ष चुना गया। योगेश पासवान, अर्चना रानी और शिवा त्रिपाठी दिल्ली प्रदेश के पार्टी महासचिव चुने गए। जबकि रिज़वान अहमद और सहबाज मल्लिक सचिव और शिवदत्त को कोषाध्यक्ष चुना गया। 

सम्मेलन का समापन पार्टी के वरिष्ठ नेता जस्टिस राजेन्द्र सच्चर ने किया। उन्होंने दिल्ली प्रदेश की नई  टीम को बधाई देते हुए कहा कि उन्हें खास तौर पर दिल्ली की गरीब जनता के लिए काम करना है। झुग्गी झोंपड़ियों, पुनर्वास कोलोनियों और गाँवों में रहने वाले नागरिकों की शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी, बिजली की समस्याओं का स्थायी और मुकम्मल हल होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को उन व्यापारियों का नाम घोषित करना चाहिए। जिन्होंने सरकारी बेंकों का 6 लाख करोड़ रुपया दबाया हुआ है। सुप्रीम कोर्ट ने भी सररकार को यह कहा है. उन्होंने आगाह किया कि मौजूदा सरकार कम्पनी ऐक्ट के जरिये लोगों के लोकतंत्र को कार्पोरेट लोकतंत्र में तब्दील करना चाहती है. सोशलिस्ट पार्टी को खासकर इन दो मुद्दों के बारे में जनजागरण का काम करना चाहिए और संसद में विपक्षी पार्टियों के नेताओं को लिखना चाहिए. 

सोशलिस्ट पार्टी इंडिया दिल्ली प्रदेश के राज्य सम्मेलन में पार्टी नेताओं, कार्यकर्ताओं के अलावा दिल्ली के कई सामाजिक संगठन, मानवाधिकार कार्यकर्ता, पत्रकार, शिक्षक और सहमना साथी मौजूद रहे।    

Sunday, April 2, 2017

सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) दिल्ली प्रदेश प्रस्ताव 2017

Turn off for: Hindi

सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) दिल्ली प्रदेश का राज्य सम्मेलन
(साथी सांवलदास गुप्ता नगर)
12 चैम्सफोर्ड रोडनई दिल्ली
2 अप्रैल 2017
प्रस्ताव

दिल्ली देश की राजधानी है। सत्ता और संस्कृति का केंद्र है। इसका राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र देशी-विदेशी मल्टीनेशनल कंपनियों का बड़ा बेस है। लेकिन चंद हैसियतमंदों और उनके इलाकों को छोड़ कर इस शहर का नागरिक जीवन बदहाली से भरा है। यहां दिन-दहाड़े हत्याएंलूटपाटझगड़ा-फसादमहिलाओं के सम्मान और अस्मत पर हमले होते हैं। दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आये दिन नए साइबर अपराधों समेत हर तरह के अपराध आम बात है। निम्न और निम्न मध्यवर्ग लगातार मंहगाई और बेरोजगारी की मार में जीता है। लाखों बच्चेबूढ़ेमहिलाएं चौराहों पर भीख मांगते हैं और सड़कों पर सोते हैं। लाखों बच्चे संपन्न परिवारों अथवा ढाबों में नौकर हैं। गांवोंपुनर्वास बस्तियोंझुग्गी-झोंपड़ी बस्तियों और शहर के पुराने इलाकों में शौचालय, सड़कपार्कसीवर जैसी जरूरी नागरिक सुविधाओं का नितांत अभाव है। बिजलीपानीस्वास्थ्यशिक्षा जैसी जीवन के लिए जरूरी सेवाओं का निजीकरण करके मुनाफाखोर कंपनियों के हवाले करने की मुहिम पर देश की राजधानी में कोई रोक नहीं है। सरकार स्कूलप्रशिक्षण संस्थानकॉलेजविश्वविद्यालयशोध संस्थान खोलने के बजाय किसानों से मिट्टी के मोल ली गई जमीन आलीशान होटलमॉलफार्म हाउसरिजोर्टअस्पतालजुआ और शराब के अड़्डे खोलने के लिए कारपोरेट घरानोंधन्ना सेठों और बिल्डरों को लुटाती है। पूंजीवादी विकास की होड़ में दिल्ली दुनिया के सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरो में से एक बन गया है। प्रदूषण के चलते महामारियां फैलती हैं और हर साल हजारों लोग अपनी जान और लाखों लोग स्वास्थ्य से हाथ धो बैठते हैं। इनमें गरीब और अमीर दोनों होते हैं।
भ्रष्टाचार के लिए कांग्रेस को कोस कर सत्ता में आने वाली आम आदमी पार्टी के पूरे प्रशासन में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। किसी विभाग में कोई काम रिश्वत के बगैर नहीं हो पाता। पूंजीवाद की खुली पैरोकार केजरीवाल सरकार के शासन में अमीर और दलाल मालामाल और मेहनतकश जनता बेहाल है। मौजूदा दिल्ली सरकार ने केंद्र की मोदी सरकार की तर्ज पर जनता की गाढ़ी कमाई का अरबों रुपया अपने नेता और पार्टी की छवि चमकाने पर फूंक दिया है। मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया में अपने फोटो वाले कीमती होर्डिंग-पोस्टर लगवाने की होड़ लगी रहती है। फोट छपवाने की हविस का आलम यह है कि केजरीवाल ने गुरु गोविन्द सिंह जी के 350वें जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में लगवाए गए होर्डिंग्स पर भी अपना फोटो लगवाया। भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के दौरान सादगी और ईमानदारी का दावा करने वाले केजरीवाल बतौर मुख्यमंत्री शाही अंदाज में रहते हैं। दिल्ली जैसे आधे-अधूरे और अत्यंत छोटी भौगोलिक सीमा वाले राज्य में उपमुख्यमंत्री रखा गया हैजो पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के आवास में ठाठबाट के साथ रहता है। ये दोनों शख्स एनजीओ जगत से आए हैं और उसी तर्ज पर सरकार चला रहे हैं। यानी मुनाफाखोर पूंजीवाद को बचाने के लिए गरीबों को फुसलाने का नाटक। भाजपा की बी टीम बनने की कवायद में लगी आम आदमी पार्टी का समर्थन देश और दिल्ली का ज्यादातर प्रगतिशील नागरिक समाज और नेता करते हैं। सोशलिस्ट पार्टी का मानना है कि संविधानसममत समता और स्वतंत्रता की राजनीतिक धारा के लिए यह चिंता और चुनौती का सबब है।   
इस सम्मेलन की मार्फत सोशलिस्ट पार्टी दिल्ली प्रदेश दिल्ली की मेहनतकाश जनता के हवाले से निम्नलिखित मांगें पेश करती है:
1. दिल्ली शहर के हर इलाके और हर तबके में महिलाओं की स्वतंत्रता और सम्मान सुनिश्चित किया जाए।
2.  वरिष्ठ नागरिकोंविकलांगों और बच्चों की सहूलियत का अधिकाधिक ख्याल रखा जाए।
3.  राजधानी के जीवन की नई चुनौतियों और जरूरतों के मद्देनजर रचनात्मक युवा नीति और बाल नीति का निर्माण किया जाए।
4.  दिल्ली में बिजलीपानी और स्वास्थ्य सेवाओं का निजीकरण बंद हो।  
5. शिक्षा का निजीकरण बंद हो। अभी तक बन चुके निजी स्कूलोंकॉलेजोंविश्वविद्यालयों का राष्ट्रीयकरण/समाजीकरण किया जाए।
6.   सरकार सबको समाननिशुल्कगुणवत्तापूर्ण शिक्षा मातृभाषा में देने का संवैधानिक दायित्व पूरा करे। 
7.  दिल्ली सरकार के सभी स्तर के स्कूलों में और दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेजों/विभागों में शिक्षकों के खाली पद तुरंत भरे जाए।
8. दिल्ली में बिजलीपानी और स्वास्थ्य सेवाओं का निजीकरण बंद हो। प्राइवेट अस्पतालों का राष्ट्रीयकरण/समाजीकरण किया जाए।    
9. दिल्ली सरकार के सभी विभागों में चौथी और तीसरी श्रेणी के कर्मचारियों के खाली पद तुरंत भरे जाएं। नागरिकों का काम जल्दी होइसके लिए सभी विभागों में नए पदों का सृजन किया जाए। ठेकेदारी प्रथा बंद की जाए।
10. दिल्ली के गांवों में वहां के समस्त नागरिकों के हितों को तवज्जो देते हुए आवाससड़कबिजलीपानीपुस्तकालयमहिला केंद्रबाल केंद्रस्वास्थ्य केंद्रपार्कसामुदायिक स्थलस्कूलकालेजवोकेशनल संस्थान आदि की सुविधाएं मुहैया कराई जाएं। किसानों के अलावा खेती पर निर्भर रहने वाले कारीगर परिवारों को रिहायशी प्लाट दिए जाएं।
11.  अनियमित कॉलोनियों को समुचित नागरिक सुविधाएं देकर नियमित किया जाए।
12. लंबे समय से जेजे कॉलोनियों में रहने वाले सभी परिवारों को एकमुश्त योजना के तहत रिहायशी फ्लैट दिए जाएं।
13. स्वरोजगार के इच्छुक नागरिकों को लघु व गृह उद्योग चलाने की छूट व सुविधाएं प्राथमिकता के आधार पर दी जाएं।
14. रेहड़ी-पटरी पर दुकान लगा कर पेट पालने वाले नागरिकों को कमेटी और पुलिस को रिश्वत नहीं देनी पड़ेइसका स्थायी हल निकाला जाए।
15. अनियमित कॉलोनियों को समुचित नागरिक सुविधाएं देकर नियमित किया जाए।
16. यह सुनिश्चित किया जाए कि शहर के ट्रेफिक नियमन के लिए पूरे शहर की लाल बत्तियां हर दिन काम करें।           

सोशलिस्ट पार्टी का नारा
समता और भाईचारा