Monday, December 21, 2015

प्रवास की पीड़ा नहीं, प्रेम कहानी है ‘नॉन रेज़िडेन्ट बिहारी’-राजेश कुमार


अगर आप भी मेरी तरह ‘नॉन रेज़िडेन्ट बिहारी’ खरीदकर लाए हैं, ये सोचकर कि इसमें पलायन की पीड़ा होगी, प्रवासी बिहारियों का दुख दर्द होगा। अपनी मिट्टी की खूशबू से बिछड़ने की कसक होगी। उस बेइंतहा बेबसी की दास्तान होगी, जो आज भी लाखों बिहारी और पुरवईया युवाओं को अपनी मिट्टी छोड़कर दर-बदर की ठोकर खाने को मजबूर करता है। तो ‘नॉन रेज़िडेन्ट बिहारी’ पढ़कर आपको निराशा हाथ लगेगी। किताब ना तो पलायन की पीड़ा बताती है, ना ही ज़िंदगी को बेहतर ढंग-ढर्रे से जीने को जद्दोजहद में लगे लाखों-करोड़ों प्रवासियों की दास्तान बयान करती है।

दरअसल ‘नॉन रेज़िडेन्ट बिहारी’ एक लंबी प्रेम कहानी है, जिसे राधाकृष्ण प्रकाशन ने उपन्यास की शक्ल में प्रकाशित किया है। ‘नॉन रेज़िडेन्ट बिहारी’ यूपीएससी का ख्वाब संजोकर दिल्ली आए एक ऐसे युवक राहुल की दास्तान है। जो बिहार के कटिहार में अपने कॉलेज की दोस्त शालू से मोहब्बत करता है। अब चूंकि नायक दिल्ली में है और नायिका बिहार में, तो होता ये है कि दिल्ली की कहानी हर वक़्त बिहार में ही रहती है। इसीलिए नॉन रेज़िडेन्ट वाली फीलिंग नहीं आती है। उपन्यास यूपीएससी का ख्वाब संजोए एक युवा और उनके दोस्तों के ईर्द गिर्द बुनी गई है। लेकिन कहीं से भी ये किताब दिल्ली में रहनेवाले पुरवईया छात्र-छात्राओं की परेशानी की प्रतिबिंबित नहीं करती है।‘नॉन रेज़िडेन्ट बिहारी’ शुरू तो होती है यथार्थ के धरातल पर, लेकिन कहानी क्लाइमेक्स तक आते-आते फिल्मी हो जाती है। जिस तरीके से नायक यूपीएससी की मेन्स परीक्षा छोड़कर नायिका की शादी रोकने निकलता है, और जिस तरीके से नायिका उससे मिलती है। कहानी पूरी तरह से फिल्मी बन जाती है। 

एक चीज क़िताब में बड़ी ख़ास है, जो आज के दौर में बेहद ज़रूरी है। ये क़िताब धार्मिक उन्माद और असहिष्णुता के बीच अपने कई प्रसंगों और संवादों के जरिए एक सेक्यूलर समाज को मजबूती से गढ़ती नज़र आती है। अब्दुल और गोपी के बीच तक़रार और फिर प्रगाढ़ दोस्ती इसकी मिसाल है। क़िताब की एक और ख़ासियत है, ये बेहद रोचक है, और जब आप पढ़ने बैठेंगे, तो बिना खत्म किए नहीं उठेंगे। यूपीएससी की तैयारी के बारे में आपको जानकारी हाथ लगेगी। और अगर सबक लेना चाहेंगे, तो सबक मिलेगा कि प्रेम के आगे कॅरियर बनाने का सपना कितना बौना साबित होता है, लाखों-करोड़ों पुरवईया युवाओं के आगे।

Friday, December 18, 2015

कलम और हल के बीच का रिश्ता है 'इश्क़ में माटी सोना'-राजेश कुमार

इश्क़ ने 'ग़ालिब' निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के
इस शेर को गुनने-गाने में ना जाने कितनी पीढ़ियां निकल गई, इन पंक्तियों को हर दौर में मौजूं माना गया। लेकिन लप्रेक सीरीज़ की क़िताबें उनकी ज़ुबानी गढ़ी गई हैं, जो अपनी क़ामयाबी का सारा श्रेय इश्क़ को देते हैं। प्रेम की लघुकथाओं के जरिए ये बदलाव केवल शब्दों का नहीं सभ्यताओं का भी है। क्योंकि गिरीन्द्र नाथ झा की क़िताब इश्क़ में माटी सोना केवल एक पत्रकार के किसान बनने भर की दास्तान नहीं है। ये बग़ावत है बने-बनाए लीक पर चलने वाले हम जैसे युवाओं के लिए। ये क्रांति है कलम को हल के क़रीब लाने की। यक़ीन मानिए इसके बिना जो भी सभ्यता गढ़ी जाएगी, वो चाहे बुलेट ट्रेन की रफ्तार से ही क्यों ना निकले अधूरी होगी।
'इश्क़ में माटी सोना' भी उन क़िताबों में शुमार हो गई, जिसे मैं पढ़ने बैठा तो ख़त्म करके ही उठा। गिरीन्द्र बाबू के चनका की दास्तान पढ़ते हुए मुझे लगने लगा कि बात मेरे गाम भितिया की हो रही है । वैसे ही खेत, वैसे ही ज़मीन के झगड़े, बंदोबस्ती और भगैत। आहा क्या खूबसूरत रचना की है 'इश्क़ में माटी सोना'। दिल्ली जाने वाले युवाओं के मन में वही चलता है, जो गिरीन्द्र नाथ ने अपनी किताब में लिखा है। गाम की वेष भूषा, गमछा, माछ और अनाज से आगे एक सेक्यूलर सपना देखने की दास्तान का नाम है 'इश्क़ में माटी सोना'।  किसान काग़ज़ नहीं हल देखता है, इस एक पंक्ति में सियासत की पूरी बखिया उधेड़ कर रख दी है। चुनाव का वर्णन है। इश्क़ में घोषणापत्र नहीं होते जैसी सुंदर पंक्तियां हैं। और नॉस्टेलजिक फीलिंग तो ऐसे ऐसे जिसे हमारे जैसे युवा दिन रात अपने सीने से चिपकाए घूमते हैं । काले कलर की राजदूत मोटरसाइकिल से आपके बाबूजी आते थे। हमारे पापा आते थे। और ना जाने कितने बाबूजी आते होंगे। लेकिन 'इश्क़ में माटी सोना' में गिरीन्द्र नाथ झा चनका देरी से आए, दिल्ली में गुजारा वक़्त किताब में ज़्यादा दे दिया। अगर चनका की लप्रेक ज़्यादा गुनी जातीं। तो हमारे जैसे पाठक क़िताब के और क़रीब आते। बात 'नेपथ्य के अभिनेता' की हो या अपरूप रूप की , 'इश्क़ में माटी सोना' के हर पन्ने में गिरीन्द्र बाबू ख़ुद रेणु के 'एक अकहानी के सुपात्र' नज़र आते हैं। नायक जब तक दिल्ली में रहता है, लप्रेक अपनी लय में है। लेकिन जैसे ही बात चनका की होती है, लघुकथा अपनी व्यापकता में निखर आती है। हर शब्द का विस्तार कोसी के ओर से लेकर खेतों के छोर तक, पूरी 'परती परिकथा' की दास्तान। चनका की बातें, कदम के पत्तों की खड़खड़ाहट, और जानने का मन करता है। एक कसक और है, बाबूजी के साथ गुजारे प्रसंग को थोड़ी जगह और मिल जाती, तो किताब और निखर जाती। पूरी क़िताब पढ़ने के बाद यही लगा....कि काश थोड़ी हिम्मत मैं भी कर लेता, अपने मन की बात कहके तो आज मैं भी एक लप्रेक लिख रहा होता। 

Saturday, December 12, 2015

संविधान पर चर्चा तथ्‍य–तर्क सम्‍मत हो- प्रेम सिंह


(गुजरात के विकास के लिए नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करने वाले अण्‍णा हजारे और हजारे का इस्‍तेमाल करने वाले अरविंद केजरीवाल को गांधी बताने वालों में कई लेखक-आलोचक भी शामिल हैं। यानी साहित्‍यकारों की ओर से भी भाषा का अवमूल्‍यन हो रहा है। वे भी नवसाम्राज्‍यवादी गुलामी लाने के गुनाहगारों में शामिल हो रहे हैं। दूसरी, अनेकों बार उधेड़ी जा चुकी बखियाओं को फिर-फिर उधेड़ने का उद्यम अपने भाषण में करने वाले मोदी-विरोधी वक्‍ताओं ने भी संविधान की मूल संकल्‍पना के हनन पर चिंता जाहिर नहीं की। यानी संविधान पर लादा गया नवसाम्राज्यवादी जुआ उन्‍हें स्‍वीकार्य है। ऐसे हालात में उदय प्रकाश ने मोदी के भाषण पर जो कुछ कहा वो निराशाजनक है।)
     संविधान दिवस 26 नवंबर को संविधान के प्रति प्रतिबद्धता विषय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की हिंदी के कथाकार उदय प्रकाश ने भूरी-भूरी प्रशंसा की है। उदय प्रकाश ने मोदी के साथ वाजपेयी को भी याद किया है, जिनकी जुमलेबाजी की प्रवृत्ति पर संविधान और संसदीय प्रणाली व प्रक्रियाओं के गहरे जानकार मधु लिमये ने एक बार कटाक्ष किया था। ‘भाषा का जादूगर’ कहे जाने वाले इस साहित्‍यकार ने अपनी प्रशंसात्‍मक टिप्‍पणी में भाषा का विवेक नहीं रखा है। लेखकों-कलाकारों को राजनीतिक विषयों पर गंभीरता पूर्वक विचार करके ही अपना मंतव्‍य देना चाहिए। ऐसा किए बगैर की गईं फुटकर टिप्पणियां उनके दरजे को कम करती हैं। साहित्य भाषा की अर्थवत्‍ता कायम रखने और समृद्ध करते जाने का स्थायी माध्‍यम होता है। मौजूदा शासक वर्ग ने भाषा को स्‍तरहीन और कपटपूर्ण बनाने में कोई कसर नहीं रखी है। ऐसे में लेखकों की इस तरह की टिप्पणियों से भाषा का संकट और गहराता है। दृष्‍टा का दर्जा पाने वाले रचनाकार जब इस तरह की अंधी अभिव्यक्तियां करते हैं तो इस समय देश में परिव्‍याप्‍त विमूढ़ता का विराट रूप ज्‍यादा सघन व सर्वव्यापी बनता है।

     यह व्याख्यायित करने की जरूरत नहीं है कि संविधान पर चर्चा विषय-निष्‍ठ एवं तथ्य-तर्क सम्‍मत (रैशनल) ही हो सकती है। विषय संविधान है और तथ्‍य यह है कि डुंकेल प्रस्तावों से लेकर भारत-अमेरिका परमाणु करार (जिसका एक शब्द भी भारत में नहीं लिखा गया) और रक्षा से लेकर शिक्षा तक को कारापेरेट क्षेत्र को सौंपने के नवउदारवादी फैसलों से शासक वर्ग ने संविधान की मूल संकल्पना का हनन कर डाला है। संविधान पर कोई भी गंभीर चर्चा इस तथ्‍य को नजरअंदाज करके नहीं हो सकती। बल्कि उसे अगर सार्थक होना है तो शुरू ही यहां से होना होगा। संविधान के प्रति प्रतिबद्धता का पहला तकाजा बनता है कि उसकी मूल संकल्‍पना की पुनर्बहाली के अविलंब व पुख्‍ता उपाय किए जाएं। अथवा कम से कम इतना संकल्‍प लिया जाए कि आगे संविधान को और ज्‍यादा क्षतिग्रस्‍त नहीं किया जाएगा। मसलन, समाज के लिए सबसे अहम शिक्षा जैसे विषय को कारपोरेट क्षेत्र के लिए कदापि नहीं खोलने का निर्णय लिया जा सकता है। खुद नरेंद्र मोदी अपने भाषण में कम से कम भारत अमेरिका-परमाणु करार और खुदरा में विदेशी निवेश के फैसलों, जिनका भाजपा ने कड़ा विरोध किया था, को निरस्त करने की अपनी सरकार की घोषणा करते तो संविधान के प्रति प्रतिबद्धता का कुछ अर्थ होता। लेकिन उनके देशकाल से विच्छिन्‍न भाषण में संविधान के प्रति कोई सरोकार था ही नहीं।

     उदय प्रकाश ने ऐसे भाषण की प्रशंसा की है। जाहिर है, उदय प्रकाश की तथ्‍य व तर्क से रहित भाषा नरेंद्र मोदी की तथ्‍य व तर्क से रहित भाषा से जा मिलती है। यह स्थिति भाषा के गहरे संकट को दर्शाती है। उदय प्रकाश ने अपनी टिप्पणी के अंत में नरेंद्र मोदी के भाषण के निहितार्थ का अंदेसा भी जताया है। उन्‍होंने कहा है नरेंद्र मोदी के ‘सारगर्भित व प्रभावशाली’ भाषण के पीछे उनकी कारपोरेट हित के कुछ कानून पारित कराने की मंशा हो सकती है। क्‍या देश के साहित्‍यकार को पता नहीं है कि मनमोहन सिंह के बाद मोदी का चुनाव कारपोरेट प्रतिष्‍ठान ने इसीलिए किया है, और मनमोहन सिंह से लेकर मोदी तक ऐसे संविधान विरोधी कानूनों-अध्‍यादेशों की लंबी सूची है। उनके इस अंदेसे से मोदी की ही मजबूती होती है। लोगों में संदेश जाता है कि इसके पूर्व नवउदारवादी दौर के बाकी कानून कारपोरेट हित में नहीं बनाए हैं।    

     यहां संक्षेप में पांच बातों का उल्‍लेख मुनासिब होगा। पहली, पिछले दिनों कई लेखकों-आलोचकों की यह स्थिति देखने को मिली है। गुजरात के विकास के लिए नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करने वाले अण्‍णा हजारे और हजारे का इस्‍तेमाल करने वाले अरविंद केजरीवाल को गांधी बताने वालों में कई लेखक-आलोचक भी शामिल हैं। यानी साहित्‍यकारों की ओर से भी भाषा का अवमूल्‍यन हो रहा है। वे भी नवसाम्राज्‍यवादी गुलामी लाने के गुनाहगारों में शामिल हो रहे हैं। दूसरी, अनेकों बार उधेड़ी जा चुकी बखियाओं को फिर-फिर उधेड़ने का उद्यम अपने भाषण में करने वाले मोदी-विरोधी वक्‍ताओं ने भी संविधान की मूल संकल्‍पना के हनन पर चिंता जाहिर नहीं की। यानी संविधान पर लादा गया नवसाम्राज्यवादी जुआ उन्‍हें स्‍वीकार्य है। हमने पहले भी यह कई बार कहा है कि संविधान में निहित समाजवाद के मूल्‍य को त्‍याग कर अलग से धर्मनिरपेक्षता के मूल्‍य को नहीं बचाया जा सकता। तीसरी, संविधान दिवस का आयोजन डा. अंबेडकर की 125वीं जयंती के अंतर्गत किया गया। चर्चा संविधान के बारे में कम, डा. अंबेडकर पर कब्जे की कवायद ज्यादा थी। संविधान की मूल संकल्‍पना को नष्‍ट करके जिस डा. अंबेडकर को पाया जाएगा, वह एक खोखला नाम अथवा मूर्ति भर होगी। पांचवी, संविधान लागू होने की पचासवीं वर्षगांठ पर संसद में बहस हुई थी। भावनाओं का तेज ज्वार था। आशा थी कि सांसद भावनाओं के ज्वार से बाहर आकर पिछले एक दशक में हुई संविधान की क्षति की मरम्मत करेंगे और आगे क्षतिग्रस्त नहीं होने देंगे। ऐसा नहीं हुआ। उसके पंद्रह साल यह बहस सामने आई है!